COVID 19
Date of Upload: 27th September, 2022

Kabad se Jugad

पाठ- 9 'कबाड़ से जुगाड़'

पाठोत्तर गतिविधि

आओ! स्वयं करके सीखें।

जीवन का सबसे अच्छा समय छात्र जीवन होता है क्योंकि तब हम बहुत कुछ सीख रहे होते हैं । जब हम स्वयं कोई कार्य करते हैं, बिगड़ी हुई बात बनाते हैं, जिसे सब बेकार समझ कर फेंक चुके हों उनसे कुछ नया बनाते हैं, तो हमारी प्रसन्नता द्विगुणित हो उठती है, आत्मविश्वास बढ़ जाता है और सबसे बड़ी बात कि कुछ नया बन जाता है। सीखने की इस कड़ी में पाठ- 9 'कबाड़ से जुगाड़' की पाठोत्तर गतिविधि में भी हमने 'गुम्मा राजू राज राय राव जी 'के जीवन से प्रेरणा लेते हुए पुराने कबाड़ से कुछ नया बनाना सीखा।